Home EDUCATION UPRTOU to work closely with kinnar welfare board for upliftment of eunuch...

UPRTOU to work closely with kinnar welfare board for upliftment of eunuch in society – Times of India-EnglishHindiBlogs-Education

28
Rate this post


प्रयागराज: उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय के अधिकारी (यूपीआरटीओयू), प्रयागराज और किन्नर कल्याण बोर्ड (KWB) ने पेशेवर और उच्च शिक्षा में किन्नरों के सामाजिक उत्थान के लिए मिलकर काम करने का फैसला किया है।
इस संबंध में यूपीआरटीओयू के कुलपति प्रो सीमा सिंह और KWB, उत्तर प्रदेश के सदस्य, महामंडलेश्वर कौशल्या नंद गिरि किन्नर अखाड़ा की टीना मां उर्फ ​​टीना मां बुधवार को
मुक्त विश्वविद्यालय के जनसंपर्क अधिकारी प्रभात मिश्र ने बताया कि महामंडलेश्वर कौशल्या नंद गिरी ने कहा कि मुक्त विश्वविद्यालय द्वारा किन्नरों को निःशुल्क शिक्षा देने का अभियान सराहनीय है. इससे किन्नर समाज को एक नई दिशा मिलेगी। उन्होंने आश्वासन दिया कि वह ट्रांसजेंडर समुदाय को ओपन यूनिवर्सिटी के शैक्षिक कार्यक्रमों से अवगत कराएंगी, जिसके लिए बोर्ड द्वारा किन्नर समुदाय की सूची तैयार की जा रही है.
उन्होंने आगे कहा कि यूपीआरटीओयू के विभिन्न कार्यक्रमों में किन्नर समाज भी सोहर, नृत्य और संगीत जैसी कलाओं के माध्यम से समाज में जागरूकता लाएगा. इस अवसर पर टीना मां ने सरस्वती परिसर में स्थापित राजर्षि टंडन की नवनिर्मित प्रतिमा पर माल्यार्पण कर अटल सभागार का भ्रमण किया.
इस मौके पर कुलपति ने महामंडलेश्वर का स्मृति चिन्ह और अंगवस्त्रम देकर विश्वविद्यालय में स्वागत किया। कुलपति ने टीना मां को विश्वविद्यालय का प्रवेश विवरणिका और अन्य अध्ययन सामग्री प्रदान की। प्रोफेसर सिंह ने कहा कि किन्नरों की शिक्षा के लिए विश्वविद्यालय लगातार सोच रहा है और प्रयास कर रहा है. उन्होंने कहा कि राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के निर्देश पर मुक्त विश्वविद्यालय ने किन्नरों के कल्याण के लिए नि:शुल्क शिक्षा की पहल शुरू की है. KWB और विश्वविद्यालय के एक साथ काम करने के प्रयास में यह पहला कदम है ताकि इसका लाभ ट्रांसजेंडर समुदाय तक पहुंचे।
उन्होंने बताया कि इस संबंध में जल्द ही एमओयू साइन किया जाएगा। प्रोफेसर सिंह ने कहा, ‘किन्नर समुदाय को शिक्षित करने के लिए हमने जो पहल की है, उसमें समाज का सहयोग बहुत जरूरी है। इस उद्देश्य को पूरा करने के लिए हमें एक सर्व-समावेशी समाज की स्थापना करनी होगी।”

.